• एक और सर्वे में एनडीए को मिला बहुमत, कांग्रेस पिछड़ी
  • लॉजिस्टिक्स और शिपिंग एमएसएमई के लिए एग्जिम बैंक का नया प्लान
  • Q4 में यूनियन बैंक का नेट प्रॉफिट 26.65 प्रतिशत गिरकर हुआ 579 करोड़ रुपए
  • 15 May BSE 223815 NSE 7108 पर, सेंसेक्स 13 Down, Dollar 59.49 Gold 29667पर,
  • ग्लैक्सो के पूर्व चीन कंट्री हेड पर घूस देने का आरोप
  • NDA के नए साथी बन सकते हैं AIADMK, BJD
  • 'चौथी तिमाही में ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स का शुद्ध मुनाफा 0.8 प्रतिशत बढ़ा !
  • माइक्रोसॉफ्ट में बिल गेट्स का मालिकाना हक खत्म होगा
  • नाइजीरिया: 'बोको हराम के 200 चरमपंथी मारे गए' !
  • रेप के आरोप में 'आशिकी 2' के गायक अंकित तिवारी गिरफ्तार !
  • आदित्य से शादी के बाद अब यशराज की क्रिएटिव डायरेक्टर होंगी रानी !
  • टाटा मोटर्स ने कतर में 3 नए ट्रक लांच किए !
  • शादी के 7 साल बाद एक शख्स का दावा, ऐश्वर्या के साथ था रोमांटिक रिश्ता!
  • दूरियां मिटाकर अब बेस्टफ्रेंड्स बन रही हैं प्रियंका-दीपिका !

चाणक्य के अनमोल विचार

chanakya1
September 19, 2011 No Comments

*   कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयम से तीन प्रश्न कीजिये – मैं ये क्यों कर रहा हूँ, इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल होऊंगा. और जब गहरई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें,तभी आगे बढें

*   व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले मर जाता है;और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है; और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है.

*  भगवान मूर्तियों में नहीं है.आपकी अनुभूति आपका इश्वर है.आत्मा आपका मंदिर है.

*  अगर सांप जेह्रीला ना भी हो तो उसे खुद को जहरीला दिखाना चाहिए.

*  इस बात को व्यक्त मत होने दीजिये कि आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए दृढ रहिये.

*  शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है.एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पता है.

*  जैसे ही भय आपके करीब आये , उसपर आक्रमण कर उसे नष्ट कर दीजिये.

*  किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना.

*  जब तक आपका शरीर स्वस्थ्य और नियंत्रण में है और मृत्यु दूर है,अपनी आत्मा को बचाने कि कोशिश कीजिये; जब मृत्यु सर पर आजायेगी तब आप क्या कर पाएंगे?

*  कोई व्यक्ति अपने कार्यों से महान होता है, अपने जन्म से नहीं.

*  सर्प , नृप , शेर, डंक मारने वाले ततैया, छोटे बच्चे , दूसरों के कुत्तों  , और एक मूर्ख: इन सातों को नीद से नहीं उठाना चाहिए.

*  जिस प्रकार एक सूखे पेड़ को अगर आग लगा दी जाये तो वह पूरा जंगल जला देता है, उसी प्रकार एक पापी पुत्र पुरे परिवार को बर्वाद कर देता है.

*  सबसे बड़ा गुरु मन्त्र है : कभी भी अपने राज़ दूसरों को मत बताएं. ये आपको बर्वाद कर देगा.

*  पहले पाच सालों में अपने बच्चे को बड़े प्यार से रखिये . अगले पांच साल उन्हें डांट-डपट के रखिये. जब वह सोलह साल का हो जाये तो उसके साथ एक मित्र की तरह व्यव्हार करिए.आपके  व्यस्क बच्चे ही आपके सबसे अच्छे मित्र हैं.

*  फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती  है. लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है.

*  दुनिए की सबसे बड़ी शक्ति नौजवानी और औरत की सुन्दरता है.

*  हमें भूत के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए, ना ही भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए ; विवेकवान व्यक्ति हमेशा वर्तमान में जीते हैं.

*  हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है.ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो. यह कड़वा सच है.

*  वेश्याएं निर्धनों के साथ नहीं रहतीं ,नागरिक दुर्बलों की संगती में नहीं रहते , और पक्षी उस पेड़ पर घोंसला नहीं बनाते जिसपे फल ना हों.

*  वह जो अपने परिवार से अत्यधिक जुड़ा हुआ है , उसे भय और चिंता का सामना करना पड़ता है,क्योंकि सभी दुखों कि जड़ लगाव है. इसलिए खुश रहने कि लिए लगाव छोड़ देना चाहिए.

*  संतुलित दिमाग से जैसी  कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा  कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है,और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है.

*  वह जो हमारे चिंतन में रहता है वह करीब है , भले ही वास्तविकता में वह बहुत दूर ही क्यों ना हो; लेकिन जो हमारे ह्रदय में नहीं है वो करीब होते हुए भी बहुत दूर होता है.

*  अपमानित होके जीने से अच्छा मरना है.मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती है, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख लाता है.

*  कभी भी उनसे मित्रता मत कीजिये जो आपसे कम या ज्यादा प्रतिष्ठा के हों. ऐसी मित्रता कभी आपको ख़ुशी नहीं देगी.

*  जब आप किसी काम की शुरुआत करें , तो असफलता से मत डरें और उस काम को ना छोड़ें. जो लोग इमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न होते हैं.

*  सेवक को तब परखें जब वह काम ना कर रहा हो, रिश्तेदार को किसी कठिनाई  में , मित्र को संकट में , और पत्नी को घोर विपत्ति में.

Leave a Reply

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


9 × = eighteen

« « स्वामी विवेकानन्द के सुविचार| हिन्दी जोक्स » »
  • Fashion

  • Lifestyle

  • Fashion